मुख्यमंत्री ने मनाया प्रवेशोत्सव, हजारों शिक्षकों के खातों में टैबलेट क्रय हेतु धनराशि का हस्तांतरण, शिक्षक स्थानांतरण पर शिक्षा मंत्री ने कही ये बात…

जीवन के निर्माण में शिक्षा की भूमिका सर्वाधिक महत्वपूर्ण है। आज के युग में अच्छी शिक्षा के लिए तकनीकी का ज्ञान होना आवश्यक है । तकनीकी के समावेश से शिक्षण को बेहतर बनाकर शिक्षा के लक्ष्य की प्राप्ति की जा सकती है। यह बात उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने नेताजी सुभाष चंद्र बोस राजकीय आवासीय विद्यालय बनियावाला, देहरादून में आयोजित प्रवेशोत्सव कार्यक्रम में कही।

Chief minister participated in praveshotsav, education minister declared important info about transfer of teachers

कार्यक्रम में पधारे मुख्यमंत्री तथा अन्य अतिथि गणों का स्वागत विद्यालय के बच्चों द्वारा तिलक लगाकर किया गया। इसके पश्चात मुख्यमंत्री द्वारा शिक्षामंत्री, स्थानीय विधायक, विधायक लैंसडौन, विधायक जागेश्वर एवं जनप्रतिनिधियों की उपस्थिति में नेताजी सुभाष चंद्र बोस आवासीय विद्यालय के उच्चीकृत भवन का शिलान्यास भी किया गया।

मुख्यमंत्री ने निभाई बच्चों के अभिभावक की भूमिका

शास्त्रों में औपचारिक शिक्षा की शुरुआत करने के लिए विद्यारंभ संस्कार का प्रावधान किया गया है इस आवासीय विद्यालय में नवप्रवेशी निराश्रित छात्र-छात्राओं का भी विद्यारंभ संस्कार शास्त्रोक्त विधि से किया गया। विद्वान आचार्य की उपस्थिति में नवप्रवेशी छात्राओं के अभिभावक की भूमिका स्वयं मुख्यमंत्री ने निभाई, और उनका विद्यारंभ संस्कार कराया।

शिक्षा में नवाचार समय की मांग

अपने संबोधन में मुख्यमंत्री ने कहा कि शिक्षा में नवाचार समय की मांग है इसके बिना शिक्षा के पुनर्जीवन की अवधारणा सार्थक नहीं हो सकती। जब दुनिया ज्ञान-विज्ञान के बारे में नहीं जानती थी, उस समय भी भारत में तक्षशिला जैसे विश्वविद्यालय पूरे विश्व को ज्ञान दे रहे थे। आज भी भारत शिक्षा के क्षेत्र में अग्रणी है। उन्होंने माता-पिता और गुरुओं का आह्वान करते हुए कहा कि अच्छी शिक्षा और बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ के संकल्प की सार्थकता के लिए विद्यादान सबसे बड़ा दान है। विद्या दान का पुण्य कन्यादान तथा अन्य किसी भी प्रकार के दान से कई गुना अधिक है।
इस वर्ष की गणतंत्र दिवस परेड में उत्तराखंड के मानस खंड झांकी को प्रथम स्थान मिलने का उदाहरण देते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 के विद्यालय शिक्षक ने क्रियान्वयन में भी उत्तराखंड में पहल की है वह दिन दूर नहीं जब शिक्षा के क्षेत्र में उत्तराखंड पूरे भारत का सिरमौर होगा।

21000 से अधिक राजकीय शिक्षकों को टेबलेट क्रय हेतु धनराशि का आवंटन

शिक्षा में तकनीकी की भूमिका को देखते हुए राजकीय प्राथमिक विद्यालयों के 21786 शिक्षकों को टेबलेट क्रय हेतु प्रति शिक्षक ₹10000 की धनराशि स्वीकृत की गई है। मुख्यमंत्री ने पीएफएमएस पोर्टल के माध्यम से एक क्लिक पर इन शिक्षकों के विद्यालयों के खातों में टेबलेट क्रय हेतु इक्कीस करोड़ छियासी लाख रुपए से अधिक की धनराशि हस्तांतरित की इस प्रक्रिया में पंजाब नेशनल बैंक का सहयोग रहा। कार्यक्रम में उपस्थित रुचि पुंडीर,कमल सुयाल,अनिता बसेरा,अरविंद सोलंकी,गंभीर सिंह सहित कुल सोलह शिक्षक शिक्षिकाओं को मुख्यमंत्री और शिक्षामंत्री ने स्वयं टैबलेट प्रदान कर अभियान की शुरुआत की।


तीन आवासीय विद्यालयों का हुआ उच्चीकरण

इस अवसर पर उपस्थित शिक्षा मंत्री उत्तराखंड डॉक्टर धन सिंह रावत ने अपने संबोधन में बताया कि आवासीय विद्यालयों के रूप में कक्षा 8 तक चलाए जा रहे 3 विद्यालयों जिनमें देहरादून गदरपुर तथा पीठसैण के आवासीय विद्यालय शामिल हैं, इनका उच्चारण किया गया है, तथा दस नए आवासीय विद्यालय भी खोले जाएंगे। इसके अतिरिक्त प्रदेश में विद्या समीक्षा केंद्र की स्थापना की गई है, जो कि गुजरात के बाद पूरे देश में उत्तराखंड का ही प्रयास है।

शिक्षकों के स्थानांतरण पर बोलते हुए शिक्षा मंत्री ने जानकारी दी कि इस वर्ष स्थानांतरण में अधिकतम 10% स्थानांतरण की सीमा की बाध्यता को खत्म करके 10 वर्ष से अधिक दुर्गम में सेवा दे चुके शिक्षकों को सुगम क्षेत्र में तबादले का अवसर प्रदान किया जाएगा पूरे राज्य में प्रति माह एक दिन विद्यालयों में बस्ता रहित दिवस घोषित किया जा रहा है, जिस दिन बच्चों को मनोरंजक गतिविधियों में प्रतिभाग कराया जाएगा। उन्होंने यह भी कहा कि बच्चों के बस्ते का बढ़ता बोझ कम करने के लिए राज्य में कार्य कर रहे सभी शिक्षा बोर्डों की बैठक करा कर सार्थक प्रयास किए जाएंगे निशुल्क पाठ्य पुस्तक वितरण में होने वाली देरी का कारण स्पष्ट करते हुए शिक्षा मंत्री ने बताया कि इस बार हमारी सरकार राजकीय सहायता प्राप्त विद्यालयों के चार लाख छात्रों को भी निशुल्क पाठ्य पुस्तकें प्रदान कर रही है इस वजह से अतिरिक्त बजट की व्यवस्था में कुछ समय लगा है। साथ ही उन्होंने विद्यालयों में बुक बैंक की स्थापना करने की भी बात कही । एक प्रश्न के जवाब में उन्होंने बताया कि सरकार पर इतिहास बदलने का आरोप लगता है, हम इतिहास बदल नहीं रहे हैं बल्कि इतिहास को सही ढंग से लिखने का प्रयास कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि अल्पसंख्यक विद्यालयों में अल्पसंख्यक छात्रों की वास्तविक संख्या का सर्वे कराकर सभी पात्र छात्रों को उनका वास्तविक हक दिलाने का निर्णय भी उनकी सरकार ने लिया है।

बच्चों का दीक्षांत समारोह और गणवेश वितरण

इस अवसर पर विद्यालय से कक्षा 8 उत्तीर्ण कर चुके विद्यार्थियों का दीक्षांत समारोह भी किया गया तथा सभी नवप्रवेशी पचास बच्चों को गणवेश प्रदान किया गया।

स्थानीय विधायक सहदेव पुंडीर ने विद्यालय के उच्चीकरण तथा शिक्षा के क्षेत्र में किए जा रहे प्रयासों के लिए अपने संबोधन में मुख्यमंत्री एवं शिक्षा मंत्री का आभार जताया।

ये रही प्रमुख घोषणाएं

  • नेताजी सुभाषचंद्र बोस राजकीय आवासीय विद्यालय की भूमि की चारदिवारी एवं खेल के मैदान का निर्माण
  • राज्य में आवासीय व कस्तूरबा गांधी विद्यालयों में कार्यरत कार्मिकों के मानदेय में तर्कसंगत वृद्धि
  • भोजन माताओं और अन सेवकों के लिए एक कल्याण कोष की स्थापना की जाएगी, जिससे उनकी सेवा अवधि की समाप्ति के पश्चात एक निश्चित धनराशि के भुगतान का भी प्रावधान होगा।
  • नेताजी सुभाष चंद्र बोस राजकीय आवासीय विद्यालय में डाइनिंग हॉल व दो अतिरिक्त कक्षा कक्षों का निर्माण


कार्यक्रम में उपस्थित मुख्यमंत्री, शिक्षा मंत्री व अन्य अतिथिगणों का स्वागत विद्यालयी शिक्षा सचिव रविनाथ रमन द्वारा किया गया, जबकि कार्यक्रम की समाप्ति पर महानिदेशक विद्यालय शिक्षा वंशीधर तिवारी द्वारा सभी का आभार व्यक्त किया गया । कार्यक्रम का संचालन अपर राज्य परियोजना निदेशक समग्र शिक्षा, उत्तराखंड डा.मुकुल कुमार सती तथा स्टाफ ऑफिसर समग्र शिक्षा बीपी मैंदोली द्वारा संयुक्त रूप से किया गया।

इस अवसर पर विधायक लैंसडाउन दिलीप रावत, विधायक जागेश्वर मोहन सिंह महरा,स्थानीय पार्षद बीना रतूड़ी, देहरादून के मुख्य शिक्षा अधिकारी प्रदीप रावत,जिला शिक्षा अधिकारी प्रारंभिक राजेंद्र सिंह रावत, उपराज्य परियोजना निदेशक मदन मोहन जोशी, अंजुम फातिमा पंजाब नेशनल बैंक के अधिकारी सुनील सखूजा, अजीत उपाध्याय, राज्य परियोजना कार्यालय से कुमार गौरव, अनिल ध्यानी,प्रदीप बहुगुणा, विजयलक्ष्मी, सुबोध डिमरी सहित कई जनप्रतिनिधि व शिक्षक – शिक्षिकाएँ उपस्थित रहे।

1 thought on “मुख्यमंत्री ने मनाया प्रवेशोत्सव, हजारों शिक्षकों के खातों में टैबलेट क्रय हेतु धनराशि का हस्तांतरण, शिक्षक स्थानांतरण पर शिक्षा मंत्री ने कही ये बात…”

  1. Tablet वितरण, शिक्षा के डिजिटलिकरण की दिशा में समग्र शिक्षा एवं शिक्षा विभाग की एक बेहतरीन पहल है l इससेे निःसंदेह राज्य की PGI रैंकिंग सुधारने में मदद मिलेगी l कार्यक्रम को सफलता पूर्वक आयोजित एवं संपन्न करने हेतु सभी अधिकारियों एवं कर्मचारियों को साधुवाद l

    Reply

Leave a Comment

%d bloggers like this: